Robot Technology – ई-कॉमर्स बिज़नेस अपने नए आयाम में।

इन्टरनेट ने रोजगार तथा रोजगार के अवसर दोनों में काफी क्रान्तिकारी परिवर्तन ला दिया है online business या ऑनलाइन कारोबार लगातार बढ़ रहा है और उसे उसमे नई -नई टेक्नोलॉजी का विकास भी हो रहा है | Robot Technology (रोबोट टेक्नोलॉजी ) भी उनमें से एक है , नयी टेक्नोलॉजी के साथ काम के अवसर तथा  व्यापार के अवसर भी बढ़ रहे हैं |

Robot Technology (रोबोट टेक्नोलॉजी )भी  ऑनलाइन कारोबार (online Business )में काम करने के तरीके में में परिवर्तन का बड़ा  कदम है | इसमें सारा काम जैसे Warehouse (वेयर हाउस )में प्रोडक्ट रखना सेलेक्ट  करना,पैक करना तथा डिलीवरी के लिये भेजना सब रोबोट (robot ) के माध्यम से होता है | मार्केट रिसर्च के हिसाब से सन 2020 तक रोबोट टेक्नोलॉजी व्यापार करीब 3.1 बिलयन डॉलर का  हो जायेगा  |                           

भारत में रोबोट टेक्नोलॉजी (Robot Technology in India ) 

भारत में रोबोट टेक्नोलॉजी में अग्रणी कम्पनी  www.greyorange.com (ग्रे ऑरेंज )  है भारत में करीब 90 % मार्केट पर कम्पनी की पकड़  है यह कम्पनी रोबोट डिजाईन करने,निर्माण करने ,तथा डिप्लॉय करने तक सारा काम करती है |

Greyorange (ग्रे ऑरेंज का इतिहास )

ग्रे ऑरेंज कम्पनी की शुरुवात सन 2011 में प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज बिट्स पिलानी से पास आउट (pass out) हुए समय कोहली एवं आकाश गुप्ता ने की।

समय एवं आकाश दोनों का ही पढाई के दौरान रोबोटिक्स (robotics) में विशेष रूचि थी वर्ष 2009 में सेन फ्रांसिस्को अमेरिका में हुए रोबो ओलिंपिक (Robo Olympic) में दोनों ने हिस्सा लिया और गोल्ड मेडल भी जीता। दोनों युवा वैज्ञानिक  कई तरह के रोबो प्रयोगों और प्रदर्शनी (exhibitions) में सक्रिय हिस्सा लेते रहे हैं

वर्ष 2011 में समय तथा आकाश ने अपनी की हुई बचत के 5 लाख रूपए से ग्रे ऑरेंज (greyorange.com) कंपनी शुरू की।  धीरे – धीरे अपने काम को बढ़ाते हुए रोबोट टेक्नोलॉजी में ई-कॉमर्स कंपनियों के वेयर हाउस (ware house) में काम आने वाले रोबोट्स(robots) के निर्माण में अपनी पकड़ स्थापित किया।

कंपनी का ऑफिस कहाँ है (Company Office)

ग्रे ऑरेंज कंपनी का मुख्य ऑफिस (head office) सिंगापुर (Singapore) में है , इसके अलावा कंपनी के तीन रिसर्च सेंटर हैं जो बोस्टन (bostan) अमेरिका , सिंगापुर , तथा गुरुग्राम (गुड़गांव ) इंडिया में है।  क्षेत्रीय ऑफिस हांगकांग (Hongkong ) , जर्मनी (Germony ), जापान(Japan ) , यु ए ई (U A E) में स्थापित हैं।

मुख्य ग्राहक (Prime Customers)

ग्रे ऑरेंज के पास मुख्य रूप से कस्टमर की लिस्ट में फ्लिपकार्ट (Flipkart), जेबोँग (Jabong), मिंत्रा (Myntra) एवं पेपरफ्राई (pepperfry) जैसे बड़े खिलाड़ी हैं इसके अलावा लॉजिस्टिक कंपनियों में आरा मैक्स (aramax) दुबई , DTDC , Delhivery हैं  और  महिंद्रा ट्रेक्टर  का लॉजिस्टिक मैनेज करते हैं। 

विदेशी कंपनियों में लॉगी (Loggy) ब्राज़ील , kerry logistics (hongkong), Ninza van(Singapore) प्रमुख है

ग्रे ऑरेंज के प्रमुख रोबोट ( Main Robots and its uses )

 वेयर हाउस मेंटेनन्स (maintanance) में ग्रे ऑरेंज के दो रोबोट विकसित किये हैं | 

(1 )बटलर (Butler )– यह रोबोट बढे एवं भारी सामान को उठाने,अपनी जगह पर रखने तथा वेयर हाउस को मैनेज करने में सहयोग करता है | 

(2 )बटलर पिक पाल (Butler pick pal )– बटलर पिक पाल आर्डर को लेने ,वेयर हॉउस में सामान खोजने ,पैक करने तथा डिलीवरी के लिए भेजने तक का काम करता है | 

 ई-कॉमर्स में जैसे जैसे प्रतियोगिता (competition ) बढ़ती जा रही है रोबोट टेक्नोलॉजी के द्वारा  व्यापर को सही तरीके से मैनेज करने ,काम की गुणवत्ता को बनाये रखने एवं  दाम को नियंत्रित करने में बड़ा योगदान है | 

इन्वेस्टर तथा फाइनेंशिअल्स (Investor and Financials)

कंपनी ने अभी तक करीब 170 मिलियन डॉलर का फण्ड उठाया है इसके प्रमुख इन्वेस्टर में टाइगर ग्लोबर (tiger global) , फ्लिपकार्ट , मिथ्रिल कैपिटल (mithril capital ), ब्लूम वेंचर्स (bloom ventures ) हैं ग्रे ऑरेंज ने अभी हाल में ही सितम्बर 2018 में सीरीज सी (series C ) की फंडिंग करीब 140 मिलियन डॉलर को उठाया है। 

    रोबोट टेक्नोलॉजी का व्यापर एक रिसर्च एनालिसिस (research and analysis ) का कार्य है अतः इसमें इन्वेस्टमेंट की अधिक डिमांड रहती है मोटा पैसा चाहिए इस काम को लगातार जारी रखने के लिए। 

ऑनलाइन कारोबार ब्लॉग में आपको ई-कॉमर्स व्यापार से जुडी नयी तकनीक , अवसर एवं ख़बरों के बारे में बताया जाता रहेगा।  हमसे जुड़े रहने के लिए सब्सक्राइब करें। धन्यवाद !

Please follow and like us:
error

2 thoughts on “ROBOT TECHNOLOGY IN ONLINE BUSINESS MANGMNT Mystery Revealed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please write your E-mail for new updates